कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा स्वास्थ का ध्यान रखना पहली प्राथमिकता: मनोज सिन्हा

कोरोना के हालात इस समय स्थिर चल रहे है लेकिन उप-राज्यपाल सरकार ने सावधानी बरतते हुए अमरनाथ यात्रा को रद्द कर दिया गया है।

कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा स्वास्थ का ध्यान रखना पहली प्राथमिकता: मनोज सिन्हा

कोरोना के हालात इस समय स्थिर चल रहे है लेकिन उप-राज्यपाल सरकार ने सावधानी बरतते हुए अमरनाथ यात्रा को रद्द कर दिया गया है। राज्यपाल मनोज सिन्हा का कहना है की लोगो के स्वास्थ का ध्यान रखना ही सर्वप्रथम प्राथमिकता है। साथ ही पिछले साल की तरह छड़ी यात्रा के साथ केवल पारंपरिक पूजन ही होगा। पवित्र गुफा से बाबा बर्फानी की आरती का प्रसारण किया जाएगा। कोरोना संक्रमण को देखते हुए श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने यात्रा न कराने का फैसला किया है। हालांकि, सभी पारंपरिक पूजन पहले ही की तरह होंगे। छड़ी निकलेगी और ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन पूजन भी होगा। इस साल श्राइन बोर्ड ने 28 जून से अमरनाथ यात्रा शुरू कराने का फैसला किया था। पहले दिन उप राज्यपाल एवं अन्य लोग बाबा बर्फानी की पूजा अर्चना करेंगे। 


बोर्ड प्रशासन ने बाबा के दर से सुबह-शाम की आरती के लाइव प्रसारण के लिए करार कर लिया है। नियमित रूप से पवित्र गुफा से आरती का प्रसारण होगा। बाबा भोले के भक्त देशभर से मां वैष्णो की तरह आरती का लाइव प्रसारण देख सकेंगे। गौरतलब है कि वर्ष 2020 में महामारी के कारण तीर्थयात्रा रद्द कर दी गई थी। इससे पहले, सिन्हा ने विकास की पहलों के अलावा, जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा स्थिति का जायजा लेने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बुलाई गई बैठक में हिस्सा लिया। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, केंद्र सरकार तथा जम्मू कश्मीर प्रशासन के शीर्ष सुरक्षा और खुफिया अधिकारी शामिल हुए। 


आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री को जम्मू-कश्मीर में मौजूदा सुरक्षा स्थिति और वहां किए जा रहे सुरक्षा उपायों के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि शीर्ष अधिकारियों ने शाह को नियंत्रण रेखा और पाकिस्तान से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थिति के बारे में भी बताया। हालांकि, श्रद्धालु 28 जून से ऑनलाइन दर्शन कर पाएंगे. श्री अमरनाथ छड़ी मुबारक 22 अगस्त को गुफा में ले जाया जाएगा।