एक घंटे इंतज़ार के बाद उफनते नाले को पार कर सहमे हुए घर पहुचे बच्चे

उत्त्तरकाशी जनपद  में हो रही बारिश मुसीबत बनी हुई है हम देख सकते हैं कि किस प्रकार उफनते  नाले को  स्कूली बच्चे पार कर रहे हैं।

एक घंटे इंतज़ार के बाद उफनते नाले को पार कर सहमे हुए घर पहुचे बच्चे
उत्तराखंड राज्य में इन दिनों मानसून ने दस्तक दी है मानसून की वजह से लोगो को गर्मी से तो रहत मिल गई है मगर अब जनता को बारिश की वजह से भरते रोड और नालो का सामना करना पड़ रहा है, जगह जगह थोड़ी सी बारिश के बाद भी लोगो को जलभराव से झुजना होता है वही भारी भारिश में तो पता भी नही लगता की रोड कहा है और नाल्ले कहा ऐसे ही एक समस्या उत्तरकाशी जनपद में भी देखने को मिली जहा बच्चो को उफान मारते नाले को पार करके जाना पद रहा है 


दरसल उत्त्तरकाशी जनपद  में हो रही बारिश मुसीबत बनी हुई है हम देख सकते हैं कि किस प्रकार उफनते  नाले को  स्कूली बच्चे पार कर रहे हैं। जनपद उत्तरकाशी मंड आज से  तीन दिन  तक  बारिश को लेकर ऑरेंज अलर्ट है।  जिले में बारिश से आम जनजीवन  अस्त ब्यस्त हो रखा है।हम बात कर रहे जनपद के   नोगांव विकास खंड के राजकीय इंटर कालेज गडोली की जनपद में हो रही  बारिश से   इंटर कालेज के पास बरसाती गदेरा यानि नाला  इतने उफान पर आ गया कि बच्चे स्कूल में ही फंस गये। 


विद्यालय प्रबंधन ने बच्चों को बारिश रुकने के बाद  घर भेजा। लेकिन बारिस इतनी तेज  थी कि बच्चों के द्वारा बरसाती नाले को पार करना मुश्किल था। अध्यापकों ने बरसाती गदेरे के तेज बहाव के कारण  किस तरह से अध्यापकों ने सभी स्कूली बच्चों को उफनते नाले से पार करवाया ।डरे सहमे बच्चे  मौषम के भयानक मंजर को लेकर  आपबीती सुनाते हुए बताते है कि  तेज बारिस होने लगी और नदी नाले उफान पर आ गए कालेज के पास ही बहने वाला नाला भी उफान पर आ गया बारिस थमने के बाद किसी तरह स्कूल के अधयापकों ने नाले को पार कराया और तब हम घर पहुंचे।इस तरह का मंजर बहुत ही भयावह है क्युकी ऐसे वच्चो की जान माल का खतरा है