मजदूरों भीड़ जुटा रही है आम आदमी पार्टी, कार्यक्रम के बाद मजदूरों को नहीं मिला पैसा

गरीबों की भूंक का मजाक और उनके पेट पर रोटियां सेकना राजनीतिज्ञ अच्छे से जानते है

मजदूरों भीड़ जुटा रही है आम आदमी पार्टी, कार्यक्रम के बाद मजदूरों को नहीं मिला पैसा

रुद्रपुर: गरीबों की भूंक का मजाक और उनके पेट पर रोटियां सेकना राजनीतिज्ञ अच्छे से जानते है। कुछ ऐसा ही रोटियां गरीबों के भूंक की आंच में उत्तराखंड के सीएम उमीदवार अजय कोठियाल सेंक रहे है। दरअसल भीड़ जुटाने के लिए सीएम उमीदवार जीत के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार बैठे है। हुआ कुछ यु जब लेबर से मजदूरों को पैसों के नाम उठाकर कार्क्रम में लाया गया इसके बाद तय की गई दिहाड़ी का भुगतान न करने पर श्रमिक मायूस होकर सड़क पर बैठ गए। श्रमिकों ने आप का विरोध जताया और श्रम कार्यालय में शिकायत करने की बात कही। 


अधिकारी पंहुचा था लेने 

बात दे ये वाक्या बीते बुधवार का है जब रुद्रपुर के कंचनतारा होटल में आम आदमी पार्टी की सदस्यता का कार्यक्रम था। वही इस कार्क्रम में अजय कोठियाल मुख्य अतिथि के रूप के तौर पर शिरकत करने आए थे वही अब बारी थी भीड़ की जहाँ भीड़ जुटाने के लिए एक पद अधिकारी लेबर चौक पहुंच गया और वह के मजदूरों को यह दिलासा दिलाया की वह चलने पर चार सौ रुपये और खाना मिलेगा। इतनी सी बात पर मजदूर वह भीड़ का हिस्सा बनने के लिए पहुंच गए लेकिन वह से मजदूरों को खाली हाथ वापस आना पड़ा न उन्हें खाना मिला ना ही पैसा लेकिन मिली तो सिर्फ मायूसी जिसके चलते मजदूरों को प्रदर्शन करना पड़ गया। 


एक दिन की गई दिहाड़ी 

ऐसे में श्रमिकों ने कार्यक्रम स्थल पर जोरदार प्रदर्शन किया। कहा कि श्रम कार्यालय में न्याय की गुहार लगाएंगे। इस मौके पर राजू, सुनिल, गोपाल, गोविंद सहित अन्य थे। अपना दर्द बताते हुए एक मजदूर ने कहा की घर में बड़ा परिवार है मेहनत मजदूरी करके अपना घर चलता हूँ लेबर चौक में जब मैं काम के इन्तजार में बैठा था तब उस वक़्त एक ठेकेदार आया और आम आदमी पार्टी के कार्यक्रम में चलने को बोला लेकिन वह पहुंच कर पैसा और खाना दोनों ने नहीं मिला साथ एक दिन की दिहाड़ी भी चली गई। इस झूठे दिलसे के चक्कर में एक दिन भूखा रहना पड़ गया क्यूंकि घर में मेरे आलावा और कोई कमाने वाला है नहीं है। यह दास्तान सिर्फ किसी एक मजदूर की नहीं बल्कि एक साथ कई मजदूरों की थी जिन्हे पैसे और खाने के नाम पर बेवक़ूफ़ बनाया गया था।