एक माँ की अपनी बेटी को अफ़ग़ानिस्तान से वापस लाने की गुहार, तीन साल पहले आईएसआईएस में हुई थी शामिल

आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने गई निमिशा फातिमा व चार साल की पोती को वापस लाने के लिए उसकी मां के.बिंदु ने गुहार लगाई है।

एक माँ की अपनी बेटी को अफ़ग़ानिस्तान से वापस लाने की गुहार, तीन साल पहले आईएसआईएस में हुई थी शामिल

आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने गई निमिशा फातिमा व चार साल की पोती को वापस लाने के लिए उसकी मां के.बिंदु ने गुहार लगाई है। निमिशा ने आज से कुछ साल पहले तीन अन्य महिलाओं के साथ आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए केरल छोड़ दिया था। लेकिन, अब अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद उनकी मां ने भारत सरकार से उन्हें वापस लाने की अपील की है। 

के. बिंदु मूल रूप से तिरुवनंतपुरम की रहने वाली हैं। लेकिन, उनकी बेटी निमिशा फातिमा केरल में रहती थी। आज से कुछ साल पहले आतंकी संगठन में शामिल होने के लिए निमिशा ने केरल छोड़ दिया था। निमिशा की मां के.बिंदु ने बताया कि केरल छोड़ने के बाद उनकी बेटी ईरान में रही। लेकिन, उसके बाद वह अफगानिस्तान चली गई। 


2019 से अफगानिस्तान की जेल में बंद थी निमिशा 

केरल छोड़कर आईएसआईएस में शामिल होने वाली निमिशा व अन्य तीन महिलाएं 2019 से अफगानिस्तान की जेल में बंद हैं। जानकारी के मुताबिक निमिशा का पति अमेरिका द्वारा आईएसआईएस के बेस पर की गई एयर-स्ट्राइक में मारा गया था। इसके बाद महिलाओं व बच्चों समेत 408 लोगों ने अफगानिस्तान की सरकार के आगे आत्मसमर्पण कर दिया था, जिसके बाद उन्हें जेल में बंद कर दिया गया था। 

तालिबान के कब्जे के बाद जेल से बाहर है निमिशा 

निमिशा की मां के.बिंदु ने बताया कि अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद जेलें खोल दी गई हैं। इस कारण अब निमिशा जेल से बाहर आ गई है। लेकिन, तालिबानी लोग उसे जिंदा नहीं छोड़ेंगे । के.बिंदु ने भारत सरकार से अपील की कि उनकी बेटी व चार साल की पोती को वापस भारत लाया जाए।